muslim-pro
Islamic

Muslim Pro और Quran App द्वारा मुस्लिमों का डाटा ग़लत इस्तिमाल करने का मामला

ब्यूरो: Muslim Pro और Quran App द्वारा एक बड़ी सेंधमारी की बात सामने आई है। मिली जानकारी के अनुसार इन दोनों ऍप के ज़रिए दुनिया भर के लाखों मुसलमानों का डाटा एकत्र किया है और अमेरिकी सेना को सौंप दिया है।

प्रौद्योगिकी वेबसाइट मदरबोर्ड के अनुसार, अमेरिकी सेना ने उपयोगकर्ताओं के स्थान डेटा को प्राप्त करने के लिए दो अलग-अलग तरीकों का इस्तेमाल किया। पहले में एक उत्पाद शामिल था जिसे लोकेट एक्स कहा जाता है।

मदरबोर्ड, यूएस स्पेशल ऑपरेशंस कमांड (यूएसएसओसीओएम) के अनुसार, आतंकवाद निरोधी टीम के साथ काम करने वाली सेना की एक यूनिट ने विदेशी विशेष बलों के संचालन पर सहायता के लिए लोकेट एक्स की पहुंच खरीदी।

डेटा प्राप्त करने की दूसरी विधि में एक्स-मोड नामक एक कंपनी शामिल थी, जो एप्स से सीधे स्थान डेटा प्राप्त करती है, फिर उस डेटा को ठेकेदारों यानि अमेरिकी सेना को को बेचती है।

रिपोर्ट में पाया गया कि मुस्लिम प्रो, एक ऐप जो नमाज का सटीक समय बताता है और उपयोगकर्ताओं को उनके स्थान के संबंध में मक्का की दिशा भी बताता है, उपयोगकर्ता डेटा को एक्स-मोड पर भेज रहा था।

मुस्लिम प्रो “मोस्ट पॉपुलर मुस्लिम ऐप!” है। जिसमे कुरान की ऑडियो-रीडिंग भी शामिल है। ऐप को दुनिया भर में एंड्रॉइड डिवाइस पर 50 मिलियन और मुस्लिम प्रो की वेबसाइट के अनुसार iOS सहित अन्य प्लेटफार्मों पर कुल 95 मिलियन से अधिक बार डाउनलोड किया गया है।

Leave a Reply