4G to 5G
Posted By ideology Posted On

4G से 5G होने जा रहा है नेटवर्क, क्या सच में सुधरेगी इंटरनेट की रफ़्तार?

ब्यूरो: जब नेटवर्क 3जी से 4G हुआ था तो दुनिया भर में इंटरनेट की रफ़्तार में ज़बरदस्त उछाल देखने को मिला था। लेकिन धीरे धीरे 4जी की रफ़्तार धीमी होती गई। वहीँ अब 5जी को लाने की तैयारी चल रही है।

बता दें कि सबसे तेज 4जी नेटवर्क पर औसतन स्पीड 45 एमबीपीएस दर्ज की जाती है। लोगों को उम्मीद है कि इसे और बढ़ाया जा सकता है। लेकिन दुनिया में स्मार्टफोन की बढ़ती संख्या के कारण 4G नेटवर्क पर सीमा से अधिक भार पड़ रहा है।

इसे समझने के लिए लिए मान लीजिए एक हाईवे पर सिर्फ एक गाड़ी चल रही है तो उसकी रफ्तार तेज होगी और उसी हाईवे पर अगर एक हजार गाड़ियां आ जाएं तो स्वाभाविक रूप से गाड़ियों की रफ्तार घट जाएगी। इसी समस्या को दूर करने के लिए 5जी लाने की तैयारी हो रही है।

चिप निर्माताओं को उम्मीद है कि 5जी नेटवर्क में इंटरनेट की स्पीड को 1000 एमबीपीएस तक पहुंचाया जा सकेगा। आम जिंदगी में इसका मतलब होगा कि 4जी के मुकाबले 10 से 20 गुना ज्यादा तेज डाटा डाउनलोड स्पीड।

एक फिल्म को डाउनलोड करने में 4जी नेटवर्क पर जहां छह मिनट लगते हैं, 5जी नेटवर्क पर उसे डाउनलोड करने में 20 सेकेंड लगेंगे।

5जी के माध्यम से हम तेज और अधिक विश्वसनीय संचार कर सकेंगे। सरकार द्वारा गठित एक पैनल की रिपोर्ट के मुताबिक 5जी से 2035 तक भारत में एक लाख करोड़ डॉलर का आर्थिक प्रभाव पैदा हो सकता है।

वहीं, एरिक्सन की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 5जी से 2026 तक 27 अरब डॉलर से अधिक के राजस्व की संभावना है। एरिक्सन की एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक 2026 तक दुनिया भर में 3.5 अरब 5जी कनेक्शन होंगे जबकि भारत में इनकी संख्या 35 करोड़ तक पहुंच जाएगी।

विशेषज्ञों का मानना है कि 5जी आने के बाद यह भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करेगा। ई-कॉमर्स, स्वास्थ्य केंद्र, दुकानदार, स्कूल, कॉलेज और यहां तक की किसान भी इसका भरपूर फायदा उठा पाएंगे।

कोरोना काल में जिस तरह से इंटरनेट पर सभी की निर्भरता में बढ़ोतरी हुई है। उसको देखते हुए 5जी आने के बाद यह हर व्यक्ति के जीवन को बेहतर और सरल बनाने में मदद करेगा। इसीलिए सभी को इसका इंतजार है।

Comments (0)

Leave a Reply

%d bloggers like this: